Hindi Poetry about Love, Raadha Ki Trah

Hindi Poetry about Love, Raadha Ki Trah

राधा की तरह…

मेरी यादों में है आना जाना तुम्हारा जिस्म में सांसों की तरह….

जाने कब से भघुल गए हो तुम ख्वाबों में रातों की तरह….

मेरी जिंदगी के फलक पर छाये हो तुम महताब की तरह….

मेरी मोहब्बत का वो सागर हो तुम जिसमें खोना चाहूं मै नदी की तरह….

यूँ तो तुम्हे सोच कर ही लिखती हूँ हर ग़ज़ल, फिर सोचती हूँ बयां करू किस

तरह…. जो तुम्हे ना पाने का सबब पूछेगा ज़माना तो कहूँगी,

वो हर जगह है वो मेरी रूह के जर्रे’-जर्रे’ में बसता है,

बस मेरी ही किस्मत है राधा की तरह…


Hindi Poetry about Love

Raadha ki Trah

meree yaadon mein hai aana jaana

tumhaara jism mein saanson kee tarah…

jaane kab se bhaghul gae ho tum

khvaabon mein raaton kee tarah….

meree jindagee ke phalak par

chhaaye ho tum mahataab kee tarah….

meree mohabbat ka vo saagar ho tum

jismein khona chaahoon mai nadee kee tarah…

yoon to tumhe soch kar hee likhatee hoon har gazal,

phir sochatee hoon bayaan karoo kis tarah…

jo tumhe na paane ka sabab poochhega zamaana to kahoongee,

vo har jagah hai vo meree rooh ke jarre’-jarre’ mein basata hai,

bas meree hee kismat hai raadha kee tarah…


– by CHANCHAL CHATURVEDI

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.