Hindi poetry on motivation, Galtiyan Tu Kitni Takatwar hai

Hindi poetry on motivation

GALTIYAN

Galtiyan tu kitni takatwar hai na

Tu kitna kuch tod deti hai

Kya tu khush hai sapno ko tod kar

ya bas khush hone ka natak karti hai

Hindi poetry on motivation

Mana ki tu badle mein sabak chhod jati hai

par logon ka dil tutkar bikhar jata hai

tu bhi toh khamiyon se bhari hai

tu joh apno ko alag kar deti hai

Kya woh teri ek galti nahi?

tu logon ko jhuta muskurahat de jati hai

tu zindagi ka woh hissa hai

jise log na chahkar bhi dohra jate Hain

tu woh waqt hai joh asani se Kat ta nahi

tu pachtawaba chhod jati hai

tu kathor ko bhi tod deti hai

tu masum ko bhi jeena sikha jati hai

tu girkar uthna sikha deti hai

apne nazar mein khud ko gira dete Hain log

tu khud ko sudharne ka mauka deti hai

tu ek ache Kal ka dilasa deti hai

na Jane tu kitne masumo ko rula ti hai

sabak koi choti chiz nahi

par Teri tarika galat hai

tu woh Sach hai jise manne key

liye logon ko ek arsa lag jata hai

tu ek sajah ki tarah hai

tu bahot kuch badal deti hai

tu dard ka ek zariya hai.


गलतियाँ

गलतियाँ तू कितनी तकतवार है ना
तू कितना कुछ तोड़ देती है
क्या तू खुश है सपनों को तोड़ कर
ये बस खुश होने का नाटक करति है
माना की तू बदले में सबक छोड जाती है
पर लोगों का दिल टूटकर बिखर जाता है
तू भी तो खमियों से भरी है
तू जो अपना को अलग कर देता है
क्या वो तेरी एक गल्ती नहीं?
तू लोगों को झूठा मुस्कान दे जाती है
तू जिंदगी का वो हिसा है
जिसे लोग ना चाहकर भी दोहराते हैं
तू वो वक्त है जो आसानी से कटता नहीं
तू पछताबा छोड जाती है
तू कठौर को भी तोड़ देती है
तू मासूम को भी जीना सिखा जाति है
तू गिरकर उठा पढ़ा देती है
अपने नज़र में खुद को गिरा देते हैं लोग
तू खुद को सुधारने का मौका देती है
तू एक अच्छा कल का दिलासा देती है
ना जाने तू कितने मासूमो को रूलाती है
सबक कोई छोटी चिज़ नहीं
पर तेरी तरिका गलत है
तू वो सच है जिसे मानने की
लिए लोगों को एक अरसा लग जाता है

Hindi poetry on motivation

तू एक सहज की तरह है
तू बहुत कुछ बदल देती है
तू दर्द का एक ज़रिया है।


-by Ankita Akankshya

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.