Long Hindi poetry on love sad, Intezaar hai uska

Long Hindi poetry on love sad

Intezaar hai uska (इंतज़ार है उसका)

Intezaar karthi hoon
Khuda ke jawaab ka
Ke kab woh aayega
Khwabon se bashar

Ishk naam ki door thamkar,
Meri thakleefein mitane….
Mujhpe apni duniyan lutane….
Sabse zyaada pyar jathane.

Kisi se nahi hua pyar aajtak
Dil toh sirf hai uske naam
Jiska mujhe chehra bhi nahi dikha
Jiska mujhe naam bhi nahi patha

Long Hindi poetry on love sad

Baarish hai woh, toh nami rahoon mein
Khel hai woh, toh jeeth banun mein
Aag jaise gusse pe khudko ghuladoon
Uski hi pyar pe duniyan bhula doon

Intezaar hai us nazar ka
Jab Dil usse pehchan Lega
Intezaar hai us pal ka
Jab lufz dooriyan mitadega


इंतज़ार है उसका

इंतज़ार करती हूँ
खुदा के जवाब का
की कब वो आएगा
खवाबों से बशर

इश्क नाम की डोर थामकर,
मेरी तकलीफें मिटाने….
मुझपे अपनी दुनियां लुटाने….
सबसे ज़्यादा प्यार जताने

किसी से नहीं हुआ प्यार आजत
दील तो सिर्फ है उसके नाम
जिसका मुझे चेहरा भी नहीं दिखा
जिसका मुझे नाम भी नहीं पता

बारिश है वह तो, नमी रहूँ में
ख़ेल है वह तो, जीत बनूँ में
आग जैसे गुस्से पे खुदको घुलादूँ
उसकी ही प्यार पे दुनियां भुला दूँ

इंतज़ार है उस नज़र का
जब दिल उसे पहचान लेगा
इंतज़ार है उस पल का
जब लफ्ज़ दूरियां मिटा देगा

Long Hindi poetry on love sad

-by Shahira Shabnam. S

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.