Shayari on Pani, Safar jaise Nadi Ki pani

Shayari on Pani

बहते पानी सा तू
बहते पानी सा इश्क तेरा
जब से समझा है इसको
दुनिया अलग सी लगने लगी है ।


Behte paani sa tu
Behte paani sa ishq tera
Jab se samjha hai isko
Duniya alag si lagne lagi hai

Shayari on Pani

बस उस पानी की तरह हु मैं
थोड़ी ठहरी सी
तो थोड़ी बह गई
में तो बस अपने सपनो में ही
रह गई।


Bas uss paani ki tarah hu mein
Thodi tehri si
Toh thodi beh gayi
Mein toh bas apne sapno mein hi
Reh gayi

Shayari on Pani

कहानी कुछ अलग सी है ये
कहानी एक नए सफर की
सफर जैसे नदी का पानी
जो कभी रुकता ही नहीं ।


Kahaani kuch alag si hai ye
Kahani ek naye safar ki
Safar jaise nadi ka paani
Jo kabhi rukta hi nahi

Shayari on Pani

बस जिस कदर मानो
बारिश का पानी चू कर निकल जाता है
वैसे ही तू अक्सर
मेरे ख्वाबों में आता है ।


Bas jis kadar maano
Baarish ka paani chu kar nikal jaata hai
Waise hi tu aksar
Mere khawabon mein aata hai

Shayari on Pani

तू छू कर कुछ यूं निकल गया
मानो जैसे बारिश का पानी हो
पकड़ने का सोचूं तो
हाथ से निकल जाए ।


Tu chu kar kuch yun nikal gaya
Maano jaise baarish ka paani ho
Pakadne ka sochu toh
Haath se nikal jaaye

Shayari on Pani

बस उस पानी सा है इश्क मेरा
जिसमे हर दिन करू जिक्र तेरा
कहानी तेरी भी ही और मेरी भी
इन कहानियों में अपना बसेरा ।


Bas uss paani sa hai ishq mera
Jisme har dinkaru jikr tera
Kahani teri bhi hai aur meri bhi
Inn kahaniyon mein apna basera

Shayari on Pani

आग को बुझाता पानी है
प्यास को बुझाता पानी है
पानी है या इश्क मानो
बढ़ता जाता पानी है।


Aag ko bujhata paani hai
Pyas ko bujhata paani hai
Paani hai ya ishq maano
Badta jaata paani hai

Shayari on Pani

बस चारों तरफ
पानी की चादर ओढ़
ऐसे खुशनुमा
महक रहा है अंबर ।


Bas charo taraf
Paani ki chadar oodh
Eese kushnuma
Mehek raha hai ambar

Shayari on Pani

-by Vaishali Dosad

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.